शिव की मानस पूजा

शिव की मानस पूजा

श्रीशिव की मानस पूजा मन द्वारा कल्पित सामग्री द्वारा की जाने वाली पूजा को ‘मानस पूजा’ कहा जाता है। इस मानसिक पूजा को सामान्य पूजन से हजार गुणा अधिक महत्वपूर्ण बताया गया है। मानस पूजा पहले अथवा बाद में सुविधानुसार की जा सकती है। मनः कल्पित यदि एक फूल भी चढ़ा दिया जाए तो वह करोड़ों बाहरी फूलों के चढ़ा...

Read More

विज्ञान की नजर में त्रिपुंड

विज्ञान की नजर में त्रिपुंड

ललाट अर्थात माथे पर भस्म या चंदन से तीन रेखाएं बनाई जाती हैं उसे त्रिपुंड कहते हैं। हथेली पर चन्दन या भस्म को रखकर तीन उंगुलियों की मदद से माथे पर त्रिपुण्ड को लगाई जाती है। इन तीन रेखाओं में २७ देवताओं का वास होता है। यानी प्रत्येक रेखाओं में ९ देवताओं का वास होता हैं। शिव पुराण के अनुसार जो व्य...

Read More

शिवलिंग पूजा

शिवलिंग पूजा

सभी भगवानों की पूजा मूर्ति के रूप में की जाती है, लेकिन भगवान शिव ही है जिनकी पूजा लिंग के रूप में होती है। शिवलिंग की पूजा के महत्व का गुण-गान कई पुराणों और ग्रंथों में पाया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि शिवलिंग पूजा की परम्परा कैसे शुरू हुई। सबसे पहले किसने भगवान शिव की लिंग रूप मे पूजा की थ...

Read More

रूद्राभिषेक का महत्व

रूद्राभिषेक का महत्व

रूद्राभिषेक हमारे जीवन में विशेष महत्व रखता है, इसके करने से कई प्रकार के भयंकर कष्टों का दमन होता है व आत्मिक शांति का अनुभव होता है। रुद्र अर्थात भूतभावन शिव का अभिषेक। शिव और रुद्र परस्पर एक-दूसरे के पर्यायवाची हैं। शिव को ही 'रुद्र' कहा जाता है, क्योंकि रुतम्-दु:खम्, द्रावयति-नाशयतीतिरुद्र: य...

Read More

पार्थिव शिवलिंग पूजन

पार्थिव शिवलिंग पूजन

शिवपूजन में पार्थिव लिंग पूजन का विशेष महत्व है। इसका पूजन करने वाले भक्तों पर सदैव शिव कृपा बनी रहती है। इस लोक में यश वैभव प्राप्त करने के साथ ही मृत्यु उपरांत जीवन मरण के चक्कर से मुक्ति पा जाते हैं। कलयुग में सबसे पहले पार्थिव पूजन कूष्माड ऋषि के पुत्र मंडप ने किया। प्रभु के आदेश पर जगत के कल्या...

Read More

महामृत्युंजय मंत्र का महत्व

महामृत्युंजय मंत्र का महत्व

महामृत्युंजय मंत्र के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठ के अनुसार 33 कोटि (प्रकार) देवताओं के द्योतक हैं उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं। इन तैंतीस कोटि देवताओं की सम्पूर्ण शक्तियाँ महामृत्युंजय मंत्र से निहीत होती है। 1) “मृत्यु को जीतने वाला महान मंत...

Read More

1 - 6 of ( 6 ) records